Online Predator by Mansi Dua

आओ बच्चों तुम्हें सुनाए गाथा उस शैतान की
बुरी सोच की कोक से जन्मे ऐसे एक इंसान की
Online predator, predator online
Online predator, predator online
आओ बच्चों तुम्हें सुनाए गाथा उस शैतान की
बुरी सोच की कोक से जन्मे ऐसे एक इंसान की
Online predator, predator online
Online predator, predator online

इनका कोई मजहब नहीं,
ना कोई इनकी भाषा है
Internet से शुरू कहानी,
मासूम को भी जिज्ञासा है
बे-आराम सी बातें करे,
उस मासूम शिकार का प्यासा है
खुद को भरोसेमंद दिखाए,
देखभाल की दिलासा है

ये थी परिभाषा उस internet के शैतान की
बुरी सोच की कोक से जन्मे ऐसे एक इंसान की
Online predator, predator online
Online predator, predator online

माता पिता के ज्ञान से दूर,
बच्चों को लोभाना है
झूठे नकाब के पीछे,
वो शिकारी अनजाना है
तुम्हारा विश्वास पाकर,
अपने जाल में फसाना है
उसका एमात्र लक्ष्य,
व्यक्तिगत जानकारी पाना है

ना कोई एक पहचान उस internet के शैतान की
बुरी सोच की कोक से जन्मे ऐसे एक इंसान की
Online predator, predator online
Online predator, predator online

यौन शौषण के दृष्टिकोण का,
Internet कमान है
ऐसे शैतान का भोजन,
नासमझ और जवान है
पीछा, हिंसा, अपहरण, बलात्कार,
उसका अरमान है
ऐसे लोगों की वजह से,
आज इंसानियत बदनाम है

ये थी कहानी उस internet के शैतान की
बुरी सोच की कोक से जन्मे ऐसे एक इंसान की
Online predator, predator online
Online predator, predator online

आओ बच्चों तुम्हें सुनाए गाथा उस शैतान की
बुरी सोच की कोक से जन्मे ऐसे एक इंसान की
Online predator, predator online
Online predator, predator online
Online predator, predator online
Online predator, predator online

(This poem can be read in the rhythm of song, “Aao bachchon tumhein dikhaye jhanki hindustan ki”. Listen to it:

6 Replies to “Online Predator by Mansi Dua”

  • Ma’am, you really require a bunch of talent and creativity to pen down a poem. Really Appreciated!
    Just seek clarity on the exact meaning of ” बुरी सोच की कोक” as I personally felt कोक is such an honorable word, that linking it with an evil of sexual predators , i just felt awkward.

    • Thank you for your comment. Though “kok” simply refers to the creator of anything in writing world and not just the sacred womb of a mother. But I will surely consider it and try to come up with something else, thanks.

  • It was beautifully written and sang by you and a wonderful idea to grab the attention of a child and make them understand to identify the difference of right and wrong.

  • Beautiful poem Mansi! It is quite engaging and catchy and makes it easier to raise awareness!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.